सीएम योगी आदित्यनाथ के सामने लैंड बैंक प्रोजेक्ट का प्रेजेंटेशन हुआ ।

उत्तर प्रदेश : सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष बुधवार को एनेक्सी में लैंड बैंक प्रोजेक्ट का प्रदर्शन किया गया। लैंड पूलिंग स्कीम के तहत योजना का क्षेत्रफल कम से कम 50 एकड़ रखा जाए। योजना को जमीन पर उतारने के लिए ग्रामीण इलाके में सड़क ड्रेनेज पर स्ट्रीट लाइट जैसी बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था भी संबंधित विकास एजेंसी द्वारा सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि, आवास एवं शहरी नियोजन विभाग के लैंड बैंक प्रोजेक्ट के तहत ग्रीन बेल्ट, वाटर, हारवेस्टिंगस सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट आदि की व्यवस्था अनिवार्य रूप से की जानी चाहिए। सालिड वेस्ट मैनेजमेंट के जरिए कूड़ा उर्जा का स्त्रोत हो सकता है। प्रेजेंटेशन के दौरान प्रमुख सचिव शहरी आवास एवं नियोजन नितिन रमेश गोकर्ण ने बताया कि लैंड पूलिंग स्कीम जमीन जुटाने की ऐसी प्रणाली है। जिसके जरिए विभिन्न जमीन मालिकों की जमीन उनकी सहमति एवं स्वेच्छा से फुल कर विकास किया जा सकता है। विकास के कामों के बाद जमीन मालिकों को उनके मूल स्वामित्व की जमीन के अनुपात में पुनर्गठित भूखंडों के रूप में वापस किया जाता है। भूमि की खरीद और अधिग्रहण किए बिना सुनियोजित निष्पक्ष एवं न्याय संगत शहरी विकास के लिए लैंड पुलिंग स्कीम एक अभिनव विकल्प है। गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, दिल्ली तथा पंजाब जैसे आधा दर्जन से ज्यादा राज्यों में इस सिस्टम का आवासीय योजनाओं एवं बुनियादी सुविधाओं के विकास में व्यापक उपयोग किया जा रहा हैं ।

Share This:

Leave a Comment